Skip to main content

location of Rajasthan राजस्थान की भौगोलिक अवस्थिति

राजस्थान की भौगोलिक अवस्थिति ( location of Rajasthan ) राजस्थान( Rajasthan) का कुल क्षेत्रफल 3,42,239 वर्ग किमी है । यहाँ हम आपको राजस्थान के अक्षांश एवं देशांतर ,राजस्थान की स्थलीय सीमा व स्थिति ,राजस्थान एवं उसके पड़ौसी राज्य ,राजस्थान के जिले, संभाग ,राजस्थान की स्थिति एवं विस्तार के बारे में संक्षिप्त जानकारी देंगे|

राजस्थान की भौगोलिक अवस्थिति ,Geographical location of Rajasthan,राजस्थान के अक्षांश एवं देशांतर ,राजस्थान की स्थलीय सीमा व स्थिति ,राजस्थान एवं उसके पड़ौसी राज्य ,राजस्थान के जिले, संभाग ,राजस्थान की स्थिति एवं विस्तार, राजस्थान की भौगोलिक अवस्थिति ,location of Rajasthan
राजस्थान की भौगोलिक अवस्थिति | Geographical location of Rajasthan 

राजस्थान की भौगोलिक अवस्थिति ( location of Rajasthan )

राजस्थान की ग्लोबीय स्थिति और विस्तार (Global Position and Extention of Rajasthan)


  • राजस्थान भारत के उतरी पश्चिमी भाग में स्थित है। 
  •  इसकी आकृति विषम चतुष्कोणीय (Rhombus) है।  
  • राज्य का क्षेत्रफल 3,42,239 वर्ग किमी है। 
  •  इसकी भौगिलिक स्थिति 23°3' से 30°12' उतरी अक्षांशों (कुल अक्षांशीय विस्तार 7°9') तथा 69°30' से 78°17' पूर्वी देशान्तरों (कुल देशांतरीय विस्तार 8°47') के मध्य पायी जाती है। 
  •  राज्य के पूर्व तथा पश्चिमी भाग में 36 मिनट (9*4 =36 मिनट) का अंतर रहता है। 
  • सर्वप्रथम सूर्योदय राजस्थान में धौलपुर में होता है और सूर्यास्त सबसे बाद में जैसलमेर में होता है।  श्रीगंगानगर में सूर्य किरणों का सर्वाधिक तिरछापन होता है।  
  • इस राज्य का सम्पूर्ण भू -भाग कर्क रेखा के उतर में है अर्थात कर्क रेखा राजस्थान के दक्षिण सिरे कुशलगढ़ (डूंगरपुर और बांसवाड़ा) को छूती हुई निकलती है। 
  • राजस्थान यघपि उष्णकटबन्धीय क्षेत्र के बाहर स्थित है , परन्तु मरुस्थलीय विस्तार तथा समुद्रतल से अधिक दुरी के कारणों से उसकी जलवायु उष्ण और विषम है।  
  • राज्य की जलवायु दक्षिणी - पश्चिमी एशिया के उष्ण कटिबन्धीय मरुस्थलों के समकक्ष है।  
  • इसके उतर में पंजाब , दक्षिण में गुजरात , पश्चिम में पाकिस्तान तथा पूर्व में उतरप्रदेश स्थित है।  उतर पूर्व में हरियाणा व दिल्ली तथा दक्षिण पूर्व में मध्यप्रदेश है।  
  • भौगोलिक दृष्टि से राजस्थान के पूर्व में गंगा यमुना नदियों के मैदान , दक्षिण में मालवा के पठार तथा उतर पूर्व में सतलज व व्यास नदियों के मैदानों से घिरा हुआ है।  
  • उतर से दक्षिण तक इसकी लम्बाई 826 किमी है। 
  • इसका वर्तमान में स्थित विस्तार उतर में गंगानगर ,जिले कोणा गांव के पास के उतरी छोर से दक्षिण में बांसवाड़ा  जिले में कुशलगढ़ तहसील के बोरकुण्ड गांव  दक्षिण सीमा तक है। 
  • पूर्व से पश्चिम तक इसकी लम्बाई 869 किमी है।  
  • जैसलमेर की सम तहसील के कटारा गांव की पश्चिमी सीमा से जिला धौलपुर की राजाखेड़ा तहसील के गांव सिलान की पूर्वी सीमा तक विस्तृत है। 
  • इसकी स्थलीय सीमा अर्थात पूरा घेरा लगभग 5920 किमी लम्बी है।
  • इस स्थलीय सीमा में पाकिस्तान के साथ लगने वाली अंतर्राष्ट्रीय (रेडक्लिफ रेखा )सीमा 1070 किमी है।  
  • यहाँ के सीमावर्ती जिले बाड़मेर , जैसलमेर , बीकानेर और श्रीगंगानगर है ; उतरी -पश्चिमी पर स्थित इन चारो जिलों की पाकिस्तान से लगने वाली सीमा गंगानगर में 210 किमी ,बीकानेर में 168 किमी , जैसलमेर में 464 किमी (सर्वाधिक ) और बाड़मेर में 228 किमी अंतर्राष्ट्रीय सीमा लगती है। 
  • पाकिस्तान की पूर्वी सीमा पर बहावलपुर ,मीरपुर , खास व खैरपुर जिले है।
  • क्षेत्रफल की दृष्टि से राजस्थान भारत का सबसे बड़ा राज्य है।  (1 नवम्बर 2001 से )
  •  इसका क्षेत्रफल 3,42,239 वर्ग किमी है जो की भारत के क्षेत्रफल का लगभग 10.41 %(1/10 भाग ) है।  इसके बाद क्रमशः मध्यप्रदेश , महाराष्ट्र , आन्ध्रप्रदेश व उतरप्रदेश राज्यों का स्थान है।  
  • राजस्थान की तुलना क्षेत्रफल की दृष्टि से की जाए तो यह श्रीलंका से पांच गुना , चेकोस्लोवाकिया से तीन गुना , इजराइल से सत्रह गुना तथा इंग्लैंड से दुगुने से भी बड़ा है। 
  • विश्व के 171  देश राजस्थान के क्षेत्रफल की दृष्टि से छोटे है। इस प्रकार राजस्थान का क्षेत्रफल विस्तृत है।  
  • प्रासंगिक है की जैसलमेर जिला (38401 वर्ग किमी ) राजस्थान ही नहीं वरन समस्त देश का क्षेत्रफल की दृष्टि से कच्छ (गुजरात) तथा लेह (जम्मू और कश्मीर ) के बाद तीसरा सबसे बड़ा जिला है। जैसलमेर से विश्व के 98  देश क्षेत्रफल की दृष्टि से छोटे है जिनमे भूटान (38354 वर्ग किमी) से लेकर वेटिकन सिटी (0.44  वर्ग किमी )सम्मिलित है। अजमेर , बांसवाड़ा , डूंगरपुर , झालावाड़ बूंदी ,सिरोही और टोंक इन सात जिलों का क्षेत्रफल मिलाकर भी जैसलमेर से कम क्षेत्रफल बैठता है। केरल जैसा राज्य भी राजस्थान के जैसलमेर से छोटा है।  यही नहीं,स्विट्जरलैंड ,लेबनाम , लक्सम्बर्ग , बेल्जियम तथा इजरायल भी जैसलमेर से छोटे है।  [जैसलमेर का क्षेत्रफल 38401 वर्ग किमी है। ]
  •  दौसा अपने निर्माण के समय राजस्थान का सबसे छोटा जिला था परन्तु 15 अगस्त, 1992 में महुवा तहसील (सवाईमाधोपुर) के दौसा जिले में शामिल होने से इसका क्षेत्रफल 2950 वर्ग किमी से बढ़कर 3404 वर्ग किमी हो गया है।  इसलिए अब पुनः धौलपुर ही राज्य का सबसे छोटा जिला  है।  (3033 वर्ग किमी )

राजस्थान की सीमाएँ


  • राजस्थान की उतरी सीमा हरियाणा व पंजाब से , पूर्वी सीमा उतरप्रदेश से , दक्षिण पश्चिम सीमा गुजरात से जुडी हुई है।  
  • पश्चिम में पाकिस्तान से लगी हुई (रेडक्लिफ रेखा ) सीमा 1070 किमी लम्बी है।  इस सीमा पर गंगानगर ,बीकानेर ,जैसलमेर , बाड़मेर स्थित है।  यह सीमा उतर में फजिल्का से 10 किमी ,दक्षिण में हिन्दूमल कोट /कोण्टा गांव (श्रीगंगानगर ) से प्रारम्भ होकर पश्चिम में शाहगढ़ (बाड़मेर ) चली गयी है तथा कच्छ की खाड़ी के उतर पूर्वी सिरे पर समाप्त हो जाती है।  पाकिस्तान की तरफ सीमा पर बहावलपुर , खैरपुर  और मीरपुरखास जिले स्थित है।  इन दोनों देशो के मध्य यह सीमा कृत्रिम एवं राजनीतिक है।  जैसलमेर जिले की पाकिस्तान के साथ सबसे छोटी अंतर्राष्ट्रीय सीमा 168  किमी है। 
  • भारत व पाकिस्तान के बीच की सीमा न केवल राजस्थान के लिए वरन सामरिक दृष्टि से भारत के लिए अत्यन्त महत्वपूर्ण है।  जैसलमेर में 40 किमी सीमा (शाहगढ़ बल्ख ) में तारो की बाड़ नहीं है।  
  • आन्तरिक दृष्टि से राजस्थान के उतर में श्रीगंगानगर,पश्चिम में बीकानेर ,जैसलमेर और बाड़मेर ,दक्षिण में सिरोही , उदयपुर ,डूंगरपुर ,बांसवाड़ा व झालावाड़ है और पूर्व में भरतपुर , धौलपुर , सवाईमाधोपुर व कोटा है। मध्य में अजमेर स्थित है। 
  • राज्य की कुल भौगोलिक सीमा की कुल लम्बाई लगभग 5920 किमी में से 1070 किमी रेडक्लिफ लाइन (18.07 %)लम्बी भारत -पाकिस्तान की अंतर्राष्ट्रीय सीमा राज्य से लगती है तथा शेष 4850 किमी सीमा पाँच राज्यों से लगती है।  
  • इसमें सबसे लम्बी अंतर्राज्यीय सीमा मध्य प्रदेश (1600 किमी ) से तथा सबसे छोटी सीमा पंजाब (89 किमी ) से लगती है। 
  • राज्य के 21 जिले अंतराज्यीय सीमा से लगते है।  
  • गंगानगर एवं हनुमानगढ़ जिले की सीमा पंजाब से ,भरतपुर तथा धौलपुर की सीमा उतरप्रदेश से , धौलपुर , सवाईमाधोपुर , करौली ,कोटा ,बारां ,झालावाड़ ,चितौड़गढ़ ,भीलवाड़ा प्रतापगढ़ ,बांसवाड़ा जिलों की सीमा मध्यप्रदेश से और बांसवाड़ा ,डूंगरपुर ,उदयपुर ,सिरोही एवं जालौर की सीमा गुजरात से लगती है। 
  • हनुमानगढ़ जिले की सीमा पंजाब तथा हरियाणा दोनों राज्यों के साथ लगती है। 
  • धौलपुर जिला उतरप्रदेश तथा मध्यप्रदेश दोनों के साथ बनाता है। 
  • राज्य के शेष आठ जिले -जोधपुर , नागौर ,पाली ,राजसमंद ,बूंदी ,दौसा ,टोंक और अजमेर अंतर्राज्यीय अथवा अंतर्राष्ट्रीय सीमा से नहीं लगते है।  
  • राज्य के चार जिलों हनुमानगढ़ , भरतपुर ,धौलपुर और बांसवाड़ा की अंतर्राज्यीय सीमा दो -दो सीमावर्ती राज्यों से लगती है।  
  • पाली जिले के साथ सबसे अधिक अन्य 8 जिलों की सीमा लगती है। 
  • धौलपुर की सीमा उतरप्रदेश तथा मध्यप्रदेश दोनों को छूती है।

राजस्थान की जिले व संभाग 

  • राजस्थान के पूर्ण एकीकरण के समय अर्थात 1 नवम्बर 1956 को 26 जिले थे जो 2088 तक बढ़कर 33 हो गए है।  
  • 27 वा जिला धौलपुर है जो 15 अप्रैल 1982 को बना। 
  • 28 वा जिला बारा ,29 वा जिला दौसा और 30 वा जिला राजसमंद है जो 10  अप्रैल 1991 को बने है।  
  • 31 वा जिला हनुमानगढ़ (12 जुलाई 1994 ), 32 वा जिला करौली (19 जुलाई 1997 ) और 33  वा जिला प्रतापगढ़ (26 जनवरी 2008 ) को बनाया। 
  • राजस्थान के संभाग 7, जिले 33 , जिला परिषदें 33 ,उपखण्ड 192 ,तहसील 314 ,पंचायत समिति 295 ,नगर पालिकाएँ  184 ,ग्राम पंचायत 9900 ,नगर/कस्बे 297 ,और राजस्व गांव 45,466  है। 
  • प्रतापगढ़ राजस्थान का 33 वां जिला है इसे 26 जनवरी 2008 को बनाया गया है।  नवगठित जिले में कुल 5 तहसीले बनाई गई है जो इस प्रकार है-   1. धरियावद -उदयपुर जिले से ,2. अरनोद -चितोडगढ़ जिले से , 3. प्रतापगढ़ -चितोड़गढ़ से, 4. छोटी सादड़ी -चितोडगढ से , पीपलखूंट -बांसवाड़ा जिले से।  
  • राजस्थान के सात संभागो -जयपुर , जोधपुर ,बीकानेर , अजमेर , उदयपुर ,कोटा और भरतपुर /
  • जयपुर संभाग :-जयपुर संभाग में 5 जिले  जयपुर ,सीकर ,झुंझुनू ,अलवर और दौसा है।  इसका क्षेत्रफल 36,615 वर्ग किमी है। यह सर्वाधिक जनसंख्या ,सर्वाधिक घनत्व, सर्वाधिक अनुसूचित जाति प्रतिशत जनसंख्या , सर्वाधिक साक्षरता (72.99%) है।  
  • जोधपुर संभाग :- जोधपुर संभाग में 6 जिले जोधपुर ,पाली , जालौर ,सिरोही ,बाड़मेर और जैसलमेर है।  इसका क्षेत्रफल 1,17,800 वर्ग किमी है।  यह सर्वाधिक क्षेत्रफल ,सर्वाधिक दशकीय वृद्धि दर ,सबसे काम साक्षरता (59.57%) है।  
  • बीकानेर संभाग :- इस  संभाग में 4 जिले बीकानेर , चूरू ,गंगानगर और हनुमानगढ़ है। इसका क्षेत्रफल 64,708 वर्ग किमी है।  यहा सर्वाधिक अनुसूचित जाति जनसंख्या है। 
  • अजमेर संभाग :- इस संभाग में 4 जिले अजमेर , नागौर ,भीलवाड़ा और टोंक है। इसका क्षेत्रफल 43,848 वर्ग किमी है।  यह राज्य का मध्यवर्ती संभाग है।  
  • उदयपुर संभाग :- इस संभाग में 6 जिले उदयपुर ,डूंगरपुर ,बांसवाड़ा ,राजसमंद , चितौड़गढ़  और प्रतापगढ़ है। इसका क्षेत्रफल 36,942 वर्ग किमी है।  यह राज्य का सर्वाधिक अनुसूचित जनजाति , सर्वाधिक लिंगानुपात वाला संभाग है।  
  • कोटा संभाग :- इस संभाग में 4 जिले कोटा , बूंदी ,बारां  और झालावाड़ है। इसका क्षेत्रफल 24,204 वर्ग किमी है।  यह राज्य का सर्वाधिक नदियाँ , न्यूनतम जनसंख्या वाला संभाग है।  
  • भरतपुर संभाग :- इस संभाग में 4 जिले भरतपुर , धौलपुर ,करौली और सवाईमाधोपुर है। इसका क्षेत्रफल 18,122 वर्ग किमी है।  यह राज्य का न्यूनतम क्षेत्रफल वाला संभाग है।  


Comments

Popular posts from this blog

what is endocrine system अन्तः स्त्रावी तंत्र

What is the Endocrine system (अन्तः स्त्रावी तंत्र )के इस Article में आपको endocrine system organs (अंतःस्रावी तंत्र के अंगों), endocrine system glands(अंतःस्रावी तंत्र ग्रंथियों), endocrine system diseases(अंतःस्रावी तंत्र के रोगों), list of endocrine glands and their hormones (अंतःस्रावी ग्रंथियों और उनके हार्मोन की सूची),, endocrine system facts(अंतःस्रावी तंत्र के तथ्य ) से सम्बंधित तथ्यो की जानकारी दी जायेगी। Endocrine System अन्तः स्त्रावी तंत्र अंतःस्रावी तंत्र (Endocrine system) , ग्रंथियों का संग्रह है जो हार्मोन का उत्पादन करते हैं जो उपापचयन ,  विकास, ऊतक कार्य, यौन कार्य, प्रजनन, नींद और मनोदशा को नियंत्रित करते हैं।

अन्तः स्त्रावी तंत्र का मुख्य कार्य शरीर में रासायनिक समावस्था बनाये रखना है। ये ग्रंथियों तथा हॉर्मोन्स से मिलकर बनता है। ग्रंथि :- कोशिकाओं का ऐसा समूह या ऊतक  जो तरल पदार्थ (कार्बनिक पदार्थ) स्त्रावित करता है। उसे ग्रंथि कहते है। ग्रंथिया तीन प्रकार की होती है :- Endocrine gland ( अन्तः स्त्रावी ग्रन्थियाँ )Mixed  gland (मिश्रित ग्रंथि )Exocrine gland (बाह्य स…

Rajasthan ka parichay राजस्थान का परिचय

राजस्थान का परिचय Rajasthan ka parichay राजस्थान भारत का एक गणराज्य क्षेत्र है। यहाँ हम आपको राजस्थान के नामकरण ,राजस्थान के प्राचीन क्षेत्रवार नाम ,राजस्थान की उत्पति ,राजस्थान की स्थिति एवं विस्तार के बारे में संक्षिप्त जानकारी देंगे|
राजस्थान का परिचय Rajasthan ka parichayराजस्थाननामकीऐतिहासिकविवेचना वर्तमानराजस्थानभारतीयसंविधानद्वारानिर्मितगणराज्यकाएकराज्यहै।जिसकाअस्तित्व 1 नवम्बर 1956 कोहुआ।"राजस्थान " कावर्त्तमाननामकरण 26 जनवरी 1950 मेंहुआराजस्थानशब्दकाप्राचीनतमप्रयोग "राजस्थानियादित्य " विक्रमसंवत 682 मेंउत्कीर्ण "बसंतगढ़