Introduction of Computer in hindi | कंप्यूटर का परिचय

कंप्यूटर का परिचय Introduction of Computer in hindi  कंप्यूटर एक इलेक्ट्रॉनिक मशीन है।  इस article में हम आपको कंप्यूटर का परिचय , कंप्यूटर के प्रकार जैसे सुपर कंप्यूटर , मेनफ़्रेम कंप्यूटर, मिनी कंप्यूटर , माइक्रो कंप्यूटर , कंप्यूटर की सामान्य विशेषताए तथा कंप्यूटर की सीमाओं  Introduction of Computer Basic के बारे में संक्षिप्त जानकारी दी जा रही है। 

Introducation of Computer in hindi ,  कंप्यूटर का परिचय, कंप्यूटर का परिचय , कंप्यूटर के प्रकार जैसे सुपर कंप्यूटर , मेनफ़्रेम कंप्यूटर, मिनी कंप्यूटर , माइक्रो कंप्यूटर , कंप्यूटर की सामान्य विशेषताए तथा कंप्यूटर की सीमाओं ,  Introduction of Computer Basic
Introducation of Computer in hindi  |  कंप्यूटर का परिचय

कंप्यूटर का परिचय (INTRODUCATION  OF COMPTER IN HINDI)

कंप्यूटर इलेक्ट्रॉनिक एक मशीन है।जिसका उपयोग हमारेजीवन के लगभगसभी क्षेत्रो मेंकिया जा रहाहै।  वेब प्रोद्योगिकी (web technology) इंटरनेट ( Internet ) और मोबाइल(Mobile) फोनके विकास नेज्ञान के नएआयाम स्थापित किये  है और एकनई विचार प्रक्रिया  जीवन दियाहै।  कंप्यूटर पर सतत अनुसन्धान एवंविकास की गतिको देखते हुएयह कह सकतेहै कि यहहमें जीवन मेंनए नए अनुभवों सेअवगत करवाता रहेगा।

        पर्सनल कंप्यूटर गणना,डिज़ाइन और प्रकाशन प्रयोजनों केलिए छात्रों ,इंजीनियरो , रचनात्मक लेखकोंद्वारा इस्तेमाल कियाजाता है।  कंप्यूटर नेसीखने की प्रक्रिया कोभी बेहतर कियाहै।  विद्यार्थी कक्षा में हीनहीं बल्कि जबवह यात्रा कारहा हो , याPC  केसाथ घर परबैठ कर भीअपनी पढ़ाई करसकता है।  इंटरनेट प्रौद्योगिकी सेहर व्यक्ति कोसभी जानकारी प्राप्त होनासंभव हुआ है।  वर्तमान में हम सूचनासुपर हाईवे केएक युग सेगुजर रहे हैजहाँ सभी प्रकारकी जानकारी सिर्फकंप्यूटर के एक बटनपर क्लिक करकेउपलब्ध की जासकती है।

कंप्यूटर का वर्गीकरण ( COMPUTER  CLASSIFICATION )

कंप्यूटर अपनी देता प्रसंस्करण क्षमता(DATA PROCESSING CAPABILITIES ) आधार परवर्गीकरण किया जा सकताहै।  कंप्यूटर उनके उद्देश्य ,डाटाको संभालने कीक्षमता ,कार्यक्षमता ,आकार,भण्डारण क्षमता और प्रदर्शन केआधार पर वर्गीकृत किएगए है।



आकार ,भण्डारण क्षमता और प्रदर्शन के आधार पर कंप्यूटर वर्गीकृत ( COMPUTER CLASSIFICATION based on Size, Storage Capacity and Performance )


कंप्यूटर एकबड़े कमरे केआकार तक बड़ाऔर एक लैपटॉपके रूप मेंछोटा हो  सकता हैया मोबाइल मेंमाइक्रो नियंत्रक और एम्बेडेड सिस्टमतक के आकारके हो सकतेहै। कम्प्यूटर्स के चार प्रकार है : सुपर कंप्यूटर ,मेनफ्रेम कंप्यूटर ,मिनी कंप्यूटर और माइक्रो कंप्यूटर। 


सुपर कंप्यूटर (Super Computer)

यह कंप्यूटर डेटा के भण्डारण क्षमता ,प्रदर्शन और डेटा प्रोसेसिंग के मामले में सबसे शक्तिशाली कम्प्यूटर्स होते है। सुपर कंप्यूटर बहुत ही खास कम्प्यूटर्स होते है जो कि बड़ी खोज और वैज्ञानिक उपयोग के लिए इस्तेमाल किये जाते है , जैसे की नासा (NASA) द्वारा अंतरिक्ष यान को लॉन्च करने ,उन्हें नियंत्रित करने तथा अंतरिक्ष में खोज करने के लिए सुपर कंप्यूटर का इस्तेमाल किया जा रहा है।  इन कम्प्यूटर्स को कार्य करने के लिए बहुत ज्यादा जगह की जरूरत पड़ती है और ये अत्यधिक महंगे भी होते है।  पहला सुपर -कंप्यूटर 1964 में बनाया गया था , जिसका नाम CDC 6600 था। 

सुपर कंप्यूटर के उपयोग ( Application of Super Computers ):

  • मौसम की भविष्यवाणी :- इन कम्पूटरो का उपयोग मौसम का अनुमान लगाने और भविष्यवाणी करने, बरसात तथा तूफान की तीव्रता का अध्ययन करने के लिए किया जाता है।
  • भूकंप की जानकारी लेना :- सुपर कम्पूटरो का उपयोग भूकंप घटना की खोज के लिए भी किया जाता है।  इनका उपयोग प्राकृतिक गैस , पेट्रोलियम और कोयला जैसे संसाधनों की खोज करने के लिए भी किया जाता है।  
  • संचार :- वे कम्प्यूटर्स विभिन्न उपकरणों मशीनों और व्यक्तियों के बीच संचार व्यवस्था को बढ़ाने में बहुत सहायक सिद्ध होते है।  
इन  कम्प्यूटर्स के और भी बहुत सारे उपयोग है जैसे कि हथियारों के परिक्षण और नाभिकीय हथियारों के प्रभाव को जानने में। कुछ प्रसिद्ध सुपर कम्प्यूटर्स है :-
  • IBM's Sequoia अमेरिका में 
  • Fujitsu's K computer जापान में 
  • PARAM Super Computer भारत में 

मेनफ़्रेम कंप्यूटर ( Mainframe Computer ):

ये कंप्यूटर काफी महंगे होते है और इनका इस्तेमाल सरकारी संस्थाओ और बड़ी व्यवसायिक फर्म में या बिजनस ऑपरेशन के लिए किया जाता है। ये कंप्यूटर बड़े कमरे में रखे जाते है जहा उचित शीतलन एवं अन्य दूसरी सुविधाए उपलब्ध होती है।  ये बहुत बड़ी मात्रा में उपलब्ध डेटा को बहुत तेज गति से प्रोसेस कर सकते है।  विशाल व्यावसायिक बैंक , शिक्षण संस्थान और इंश्योरेंस कंपनियों में उनके ग्राहकों के डेटा को रखने के लिए मेनफ्रेम कम्प्यूटर्स का उपयोग किया जाता है।
कुछ प्रसिद्ध मेनफ़्रेम कम्प्यूटर्स है:-

  • Fujitsu's ICL VME
  • Hitachi's Z800

मिनी कम्प्यूटर्स (Mini Computer):-

ये कंप्यूटर प्रायः छोटे व्यापार में उपयोग में लिये जाते है हालांकि ये सुपर कंप्यूटर एवं मेनफ़्रेम कंप्यूटर के समान शक्तिशाली नहीं होते है लेकिन फिर भी ये शक्तिशाली मशीनों में गिनती में आता है।  इनका उपयोग बड़ी या मध्यम वर्ग की कंपनियों और उत्पादन सदनों में किया जाता है।  ये कम्प्यूटर्स एकल उपयोगकर्ता और बहु उपयोगकर्ता की अवधारणा पर कार्य करते है।  
कुछ प्रसिद्ध मिनी कम्प्यूटर्स है:-
  • K-202
  • Texas Instrument TI-990
  • SDS-92

माइक्रो कम्प्यूटर्स (Micro Computers) :-

डेस्कटॉप कम्प्यूटर्स , लैपटॉप , PDAs ,टैबलेट और स्मार्ट फोन ,ये सब माइक्रो कंप्यूटर के प्रकार है।  ये कम्प्यूटर्स widely इस्तेमाल किए जा रहे है तथा काफी तेज गति से उभर रहे है।  ये कम्प्यूटर्स चारो बेसिक कंप्यूटर में से सबसे सस्ते होते है।  ये एक सामान्य प्रकार के कार्य को करने के लिए इस्तेमाल किये जाते है जैसे की समाचार , शिक्षा , मनोरंजन एवं अन्य दूसरे उद्देश्यो के ऑफिस कार्य को पूरा करने के लिए।  

Computer System कंप्यूटर सिस्टम क्या है  के बारे में जानने के लिए यहाँ क्लिक करे। 

कंप्यूटर सिस्टम के विशेषताएँ(Basic Benefits of Computer System):-

  • स्पीड :- कंप्यूटर बहुत ही उच्च गति पर डेटा को प्रोसेस करता है।  कंप्यूटर डेटा की एक बड़ी मात्रा को संसाधित करने के लिए केवल कुछ ही सेकंड लेता है अर्थात लाखो निर्देशों को सेकड़ो में ही संसाधित किया जा सकता है।  
  • शुद्धता :- कंप्यूटर द्वारा उत्पादित परिणाम पूर्णरूप से सही होते है।  यदि कंप्यूटर में सही डेटा दर्ज किया गया है तो प्राप्त परिणाम एकदम सटीक होगा।  कंप्यूटर GIGO (Garbage in Garbage out ) के सिद्धांत पर काम करता है।  
  • उच्च संचयन क्षमता :-कंप्यूटर की मेमोरी बहुत अधिक होती है।, और बड़ी मात्रा के देता को कॉम्पैक्ट ढंग से स्टोर कर सकते है।  कोई भी जानकारी या डेटा कंप्यूटर में एक लम्बे समय तक के लिए स्टोर रहता है।  इस सुविधा के साथ पुनरावृति से बचा जा सकता है।  
  • विविधता :- कंप्यूटर अनेक प्रकार के कार्यो को करने में उपयोग किया जा सकता है , जैसे की हम पत्र लिखने के लिए , पत्रक तैयार करने ,संगीत सुनने , वस्तु सूचि के प्रबंधन , अस्पताल प्रबंधन , बैंकिंग और कई और प्रकार के कार्य कर सकते है।  
  • परिश्रमशीलता :- कंप्यूटर एक मशीन होने के नाते थकान , एकाग्रता की कमी और बोरियत से मुक्त होता है।  कंप्यूटर जिस गति से पहले निर्देश को संसाधित करता है, उसी गति से आखिरी निर्देश को संसाधित करने में सक्षम होता है।  

कंप्यूटर की सीमाएं :- 

कंप्यूटर एक मूक मशीन है और वह स्वयं कुछ नहीं कर सकता है।  कंप्यूटर एक इलेक्ट्रॉनिक मशीन है जोकि डाटा को ग्रहण करने की क्षमता रखता है एवं दिए हुए दिशा निर्देशों की पालना करते हुए इनफार्मेशन या सिग्नल के रूप में आउटपुट देता है।  एक अप्रत्याशित स्थिति में कंप्यूटर अपने आप कोई भी निर्णय नहीं ले सकता है।  निर्देशों के क्रम को कंप्यूटर स्वयं नहीं बदल सकता है।  कंप्यूटर का आई. क्यू. नहीं होता है।


हमारे इस पोस्ट को पढ़ने के लिए आपका धन्यवाद ! इसमें आपको कंप्यूटर का परिचय , कंप्यूटर के प्रकार जैसे सुपर कंप्यूटर , मेनफ़्रेम कंप्यूटर, मिनी कंप्यूटर , माइक्रो कंप्यूटर , कंप्यूटर की सामान्य विशेषताए तथा कंप्यूटर की सीमाओं / Introduction of Computer notes,  Introduction of Computer Basic के बारे में संक्षिप्त जानकारी दी गई है।

अगर आपके कोई सवाल हो या अन्य कोई जानकारी चाहिए तो आप हमें comment Box में कमेंट करे।