Skip to main content

Internet Vs Intranet इंटरनेट vs इंट्रानेट

Internet Vs Intranet इंटरनेट vs इंट्रानेट इंटरनेट ग्लोबल वर्ल्ड वाइड वेब है जब की इंट्रानेट एक कंपनी का निजी इंटरनेट है।  आज हम आपको  इंटरनेट , इंट्रानेट , इंटरनेट vs इंट्रानेट, कंपनियां इंट्रानेट का उपयोग क्यों करती हैं? आदि के बारे में संक्षिप्त जानकारी दी जाएगी।

इंटरनेट , इंट्रानेट , इंटरनेट vs इंट्रानेट , internet , intranet , internet vs intranet, कंपनियां इंट्रानेट का उपयोग क्यों करती हैं?
Internet Vs Intranet इंटरनेट vs इंट्रानेट 

इंटरनेट (Internet)

इंटरनेट " सूचना का सुपरहाईवे " के नाम से भी प्रसिद्ध है।  इसके जरिए आप नवीनतम वित्तीय समाचार प् सकते है , लाइब्रेरी कैटेलॉग को ब्राउज कर सकते है ,अपने दोस्तों के साथ इनफार्मेशन एक्सचेंज कर सकते है या एक जीवंत राजनीतिक बहस में शामिल हो सकते है , इंटरनेट एक ऐसा टूल है जो आपको टेलीफोन , फैक्स , और पृथक कंप्यूटर से परे एक सूचना नेटवर्क तक ले  जाता है।
इंटरनेट एक वैश्विक कंप्यूटर नेटवर्क है जिसमे विभिन्न प्रकार की सूचना और संचार सुविधाएँ उपलब्ध है ,जिसमे मकीकृत संचार प्रोटोकॉल का उपयोग करते हुए इंटर - कनेक्टेड नेटवर्क शामिल है।  आपस में जुड़े हुए कंप्यूटर विभिन्न एजेंसियो से सम्बंधित होते है जैसे सरकार , विश्वविद्यालय , कंपनियों , व्यक्ति आदि। अधिकांश इंटरनेट सेवाए क्लाइंट/सर्वर मॉडल पर काम करती है।  एक कंप्यूटर अगर फाइल प्राप्त कर रहा है , तो एक क्लाइंट कहलाता है , और अगर वह फाइल भेज रहा तो एक सर्वर कहलाता है।  इंटरनेट तक पहुँच प्राप्त करने के लिए अधिकांश लोग अपने क्षेत्रो में एक इंटरनेट सेवा प्रदाता (ISP) के साथ एक खाता खोलते है।

इंट्रानेट (Intranet)

एक इंट्रानेट एक निजी नेटवर्क है जो केवल उस संगठन के कर्मचारियों के लिए ही सुलभ होता है।  आमतौर पर संगठन  आंतरिक आईटी सिस्टम से जानकारी और सेवाओं की एक विस्तृत श्रंखला संगठन के कर्मचारियों के लिए उपलब्ध होती है।  एवं ये इंटरनेट पर आम जनता के लिए उपलब्ध नहीं होता है।
एक इंट्रानेट वेबसाइट किसी भी अन्य वेब साइटों की तरह काम करती है , लेकिन एक इंट्रानेट को संरक्षण देने वाला फ़ायरवॉल अनाधिकृत उपयोग को बंद कर देता है।

Internet Vs Intranet इंटरनेट vs इंट्रानेट 

इंटरनेट ग्लोबल वर्ल्ड वाइड वेब (World Wide Web) है जब कि इंट्रानेट एक कंपनी का निजी इंटरनेट है जिसे सिर्फ कंपनी के अंदर इस्तेमाल किया जा सकता है।  दोनों TCP\IP प्रोटोकॉल को उपयोग में लेते है साथ में ईमेल और अन्य वर्ल्ड वाइड वेब मानक का इस्तेमाल भी करते है।  दोनों में मुख्य फर्क यह है कि इंट्रानेट यूजर इंटरनेट पर जा सकता है लेकिन सुरक्षा के कारणों जैसे कंप्यूटर फ़ायरवॉल के कारण इंटरनेट यूजर इंट्रानेट पर नहीं जा सकता है।  इंट्रानेट बिना इंटरनेट कनेक्शन के बिना भी चल सकता है।
इंटरनेट , अधिक व्यापक एक बड़ी आबादी में फैला है , सभी वेब आधारित सेवाओं के लिए बेहतर पहुंच प्रदान करता है और इस प्रकार , बहुत से उपयोगकर्ता के अनुकूल है।  इंट्रानेट , इंटरनेट का अधिक सुरक्षित और निजीकृत संस्करण है।  पूर्ण रूप से एक संगठन में आंतरिक संचार के उद्देश्य से बनाया गया , इंट्रानेट एक ऐसी व्यवस्था है जो संगठन की संचार व्यवस्था को सुव्यवस्थित बनाए रखता है जिससे सम्पूर्ण वर्ष चौबीसो घंटे त्वरित डेटा एक्सचेंज संभव हो पाता है।

कंपनियां इंट्रानेट का उपयोग क्यों करती हैं?


नब्बे के दशक के मध्य में काम के माहौल में उनका परिचय इंट्रानेट फाइलों, सूचनाओं और टॉप-डाउन संचार के लिए सरल भंडारण के रूप में कार्य करता था।
अब इंट्रानेट एक व्यवसाय का केंद्र बनने के लिए विकसित हुआ है, जिससे संचार, ज्ञान-साझाकरण, सहयोग और बहुत कुछ हो सकता है। यह यहां है जहां आप अपना खर्च दर्ज कर सकते हैं, अपनी छुट्टियां बुक कर सकते हैं, और अपनी पेंशन योजना का विवरण देख सकते हैं। आप किसी अन्य कार्यालय में सहकर्मियों से संपर्क कर सकते हैं, अपने नवीनतम समाचारों के संगठन को अपडेट करने वाले ब्लॉग को लिख सकते हैं, और अपने कार्यबल के भीतर एक समुदाय बना सकते हैं।
अधिकांश व्यवसायों के लिए, एक इंट्रानेट, एक शक के बिना, एक महत्वपूर्ण निवेश है। लेकिन यह अमूल्य भी साबित हो सकता है।
एक व्यवसाय के रूप में कार्य करने के लिए, समाचार और ज्ञान को नष्ट करने और सच्चाई का एक स्रोत बनाने का एक तरीका होना चाहिए। संगठनों, विशेष रूप से बड़े लोगों को, अपने सभी कर्मियों को जोड़ने और एकजुट करने के लिए एक मंच की आवश्यकता होती है, और यह अनुमति देने के लिए एक इंट्रानेट को आकार और संशोधित किया जा सकता है, चाहे वह शहर में एक कार्यालय ब्लॉक हो, या दुनिया भर में सैकड़ों स्थानों के साथ एक वैश्विक ब्रांड।
ऐसी पूरी जानकारी है जिसे कंपनियों को अपने कार्यबल के साथ साझा करना होगा। सहकर्मियों और विभागों की निर्देशिका से लेकर सहकर्मियों से जुड़ने के लिए फॉर्म ऑफ बुकिंग तक - एक इंट्रानेट, गो-टू रिसोर्स है।
वास्तव में, कोई फर्क नहीं पड़ता कि आप किस क्षेत्र में हैं, इंट्रानेट के फायदे कई गुना हैं। अधिक गहन दृश्य के लिए आप इंट्रानेट ब्लॉग के हमारे लाभ पढ़ सकते हैं। लेकिन इसका मुख्य सार यह है कि एक इंट्रानेट:-उत्पादकता बढ़ाता है , व्यवस्थापक पर कटौती, परिचालन लागत बचत बनाता है, त्रुटि को कम करता है ,सूचना तक पहुँच में सुधार करता है, सहयोग को प्रोत्साहित करता है , संकट संचार में सक्षम बनाता है।


Comments

Popular posts from this blog

location of Rajasthan राजस्थान की भौगोलिक अवस्थिति

राजस्थान की भौगोलिक अवस्थिति ( location of Rajasthan ) राजस्थान( Rajasthan) का कुल क्षेत्रफल 3,42,239 वर्ग किमी है । यहाँ हम आपको राजस्थान के अक्षांश एवं देशांतर ,राजस्थान की स्थलीय सीमा व स्थिति ,राजस्थान एवं उसके पड़ौसी राज्य ,राजस्थान के जिले, संभाग ,राजस्थान की स्थिति एवं विस्तार के बारे में संक्षिप्त जानकारी देंगे|
राजस्थान की भौगोलिक अवस्थिति ( location of Rajasthan ) राजस्थान की ग्लोबीय स्थिति और विस्तार (Global Position and Extention of Rajasthan)
राजस्थान भारत के उतरी पश्चिमी भाग में स्थित है।  इसकी आकृति विषम चतुष्कोणीय (Rhombus) है।  राज्य का क्षेत्रफल 3,42,239 वर्ग किमी है।  इसकी भौगिलिक स्थिति 23°3' से 30°12' उतरी अक्षांशों (कुल अक्षांशीय विस्तार 7°9') तथा 69°30' से 78°17' पूर्वी देशान्तरों (कुल देशांतरीय विस्तार 8°47') के मध्य पायी जाती है।  राज्य के पूर्व तथा पश्चिमी भाग में 36 मिनट (9*4 =36 मिनट) का अंतर रहता है। सर्वप्रथम सूर्योदय राजस्थान में धौलपुर में होता है और सूर्यास्त सबसे बाद में जैसलमेर में होता है।  श्रीगंगानगर में सूर्य किरणों का सर्वाधि…

what is endocrine system अन्तः स्त्रावी तंत्र

What is the Endocrine system (अन्तः स्त्रावी तंत्र )के इस Article में आपको endocrine system organs (अंतःस्रावी तंत्र के अंगों), endocrine system glands(अंतःस्रावी तंत्र ग्रंथियों), endocrine system diseases(अंतःस्रावी तंत्र के रोगों), list of endocrine glands and their hormones (अंतःस्रावी ग्रंथियों और उनके हार्मोन की सूची),, endocrine system facts(अंतःस्रावी तंत्र के तथ्य ) से सम्बंधित तथ्यो की जानकारी दी जायेगी। Endocrine System अन्तः स्त्रावी तंत्र अंतःस्रावी तंत्र (Endocrine system) , ग्रंथियों का संग्रह है जो हार्मोन का उत्पादन करते हैं जो उपापचयन ,  विकास, ऊतक कार्य, यौन कार्य, प्रजनन, नींद और मनोदशा को नियंत्रित करते हैं।

अन्तः स्त्रावी तंत्र का मुख्य कार्य शरीर में रासायनिक समावस्था बनाये रखना है। ये ग्रंथियों तथा हॉर्मोन्स से मिलकर बनता है। ग्रंथि :- कोशिकाओं का ऐसा समूह या ऊतक  जो तरल पदार्थ (कार्बनिक पदार्थ) स्त्रावित करता है। उसे ग्रंथि कहते है। ग्रंथिया तीन प्रकार की होती है :- Endocrine gland ( अन्तः स्त्रावी ग्रन्थियाँ )Mixed  gland (मिश्रित ग्रंथि )Exocrine gland (बाह्य स…

Rajasthan ka parichay राजस्थान का परिचय

राजस्थान का परिचय Rajasthan ka parichay राजस्थान भारत का एक गणराज्य क्षेत्र है। यहाँ हम आपको राजस्थान के नामकरण ,राजस्थान के प्राचीन क्षेत्रवार नाम ,राजस्थान की उत्पति ,राजस्थान की स्थिति एवं विस्तार के बारे में संक्षिप्त जानकारी देंगे|
राजस्थान का परिचय Rajasthan ka parichayराजस्थाननामकीऐतिहासिकविवेचना वर्तमानराजस्थानभारतीयसंविधानद्वारानिर्मितगणराज्यकाएकराज्यहै।जिसकाअस्तित्व 1 नवम्बर 1956 कोहुआ।"राजस्थान " कावर्त्तमाननामकरण 26 जनवरी 1950 मेंहुआराजस्थानशब्दकाप्राचीनतमप्रयोग "राजस्थानियादित्य " विक्रमसंवत 682 मेंउत्कीर्ण "बसंतगढ़