Skip to main content

Webpage kya hai वेबपेज क्या है?

Webpage kya hai वेबपेज क्या है? एक वेबसाइट , वर्ल्ड वाइड वेब  (WWW) फाइलों का एक सम्बंधित संग्रह है जिसमे साथ में साथ में एक पेज भी होता है जिसे होम पेज कहते है।  आप हम आपको वर्ल्ड वाइड वेब (WWW- World Wide Web) , वेबसाइट (Website) , यूनिफार्म रिसोर्स लोकेटर , URL यूआरएल , Uniform Resource Locator , डोमेन नेम सिस्टम , DNS - Domain Name System , वेब ब्राउज़र Web browser आदि के बारे में संक्षिप्त जानकारी दी जाएगी।
वर्ल्ड वाइड वेब (WWW- World Wide Web) , वेबसाइट (Website) , यूनिफार्म रिसोर्स लोकेटर , URL यूआरएल , Uniform Resource Locator , डोमेन नेम सिस्टम , DNS - Domain Name System , वेब ब्राउज़र Web browser , web page kya hai , parts of web page , webpage ke ghatak , part of internet , internet ke prakar , webiste , parts of website
Webpage kya hai वेबपेज क्या है?

Webpage kya hai वेबपेज क्या है?

एक वेबसाइट/ वेबपेज खोलने से पहले , उन घटको (systems) के पीछे की अवधारणा (processes) को समझना बहुत महत्वपूर्ण है जो इसे संभव बनाते है।

वेबसाइट Website 

एक वेब साइट , वर्ल्ड वाइड वेब (WWW) फाइलों का एक संबंधित संग्रह है जिसमे साथ में एक पेज भी होता है जिसे होम पेज (Home Page) कहते है।  एक होम पेज वो पेज होता है जो की किसी भी वेब साइट को एक्सेस करने पर सबसे पहले खुलता है।  प्रायः कोई भी कंपनी या एक व्यक्ति जिसकी वेबसाइट होती है वो आपको अपनी वेबसाइट के होम पेज का पत्ता देता है क्योंकि होम पेज के द्वारा आप पूरी वेबसाइट को नेविगेट कर सकते हो और किसी भी पेज पर पहुंच सकते हो।  
वेबसाइट से कई कार्य किये जा सकते है और कई तरह से इन्हें काम में लिया जा सकता है , वेबसाइट किसी की निजी वेबसाइट हो सकती है , एक वाणिज्यिक (Commercial) वेबसाइट हो सकती है , एक सरकारी वेबसाइट या एक गैर- लाभकारी संगठन (NGO) वेबसाइट भी हो सकती है।  वेबसाइट एक व्यक्ति , एक व्यापार या अन्य संगठन का कार्य हो सकता है , और आम तौर पर वेबसाइट एक विशेष विषय या उद्देश्य के लिए समर्पित होती है।  किसी भी वेबसाइट पर किसी अन्य वेबसाइट के लिए एक हाइपरलिंक शामिल कर सकते है।  
वेब पेज को अलग अलग आकार की कंप्यूटर आधारित एवं इंटरनेट सक्षम (Internet-enabled) डिवाइस के द्वारा देखा या एक्सेस किया जा सकता है जैसे डेस्कटॉप कंप्यूटर , लैपटॉप , PDA पीडीए एवं मोबाइल फोन।  एक वेबसाइट को एक कंप्यूटर सिस्टम पर होस्ट किया जाता है जिसे वेब सर्वर कहते है , इसे एचटीटीपी HTTP सर्वर भी कहा जाता है।  
वेबसाइटो को दो व्यापक श्रेणियों में विभाजित किया जा सकता है - स्टेटिक (Static) और डायनामिक (Dynamic) 
स्टेटिक साइटों की जानकारी स्थिर होती है एवं यूजर को संवाद की अनुमति नहीं दी जाती है , जबकि डायनामिक साइट वेब 2.0 समुदाय का हिस्सा है और साइट ओनर और साइट आगंतुकों (Followers) के बीच संवाद के लिए अनुमति देती है।  

वर्ल्ड वाइड वेब WWW- World Wide Web 
वर्ल्ड वाइड वेब (WWW) एक ओपन सोर्स इनफार्मेशन स्पेस (Open Source Information Space) है जहाँ डाक्यूमेंट्स (Documents) एवं बाकी वेब रिसोर्सेज को उनके यूआरएल द्वारा पहचाना जाता है , ये डाक्यूमेंट्स एवं वेब रिसोर्सेज हाइपरटेक्स्ट लिंक द्वारा आपस में जुड़े होते है और इंटरनेट के माध्यम से एक्सेस किये जा सकते है।  वर्ल्ड वाइड वेब (WWW) का इस्तेमाल कर अरबो लोग इंटरनेट पर इंटरैक्ट करते है।  एक विशिष्ट पेज को वर्ल्ड वाइड वेब (World Wide Web) पर वेब पेज के नाम से जाना जाता है।  इन वेब पेज को एक स्पेशलाइज्ड सॉफ्टवेयर (Specialized Software) का इस्तेमाल करके , जो यूजर की मशीन पर रन होता है , एक्सेस किया जाता है जिसको वेब ब्राउज़र के नाम से जाना जाता है। वेब पेज टेक्स्ट , इमेजेज , वीडियो , मल्टी मीडिया कंपोनेंट्स , वेब नेविगेशन फीचर जैसे हाइपरलिंक (Hyperlinks) आदि से मिलकर बने होते है।
इंटरनेट और वर्ल्ड वाइड वेब एक दूसरे के स्थान पर इस्तेमाल होते है लेकिन वे समान नहीं है।  इंटरनेट हार्डवेयर भाग के रूप में कहा जा सकता है -यह या तो कॉपर वायर , फाइबर ऑप्टिक केबल या वायरलेस कनेक्शन के माध्यम से जुड़े कंप्यूटर नेटवर्क का एक संग्रह है , जबकि वर्ल्ड वाइड वेब सॉफ्टवेयर भाग के रूप में कहा जा सकता है -यह वेब पेज का एक संग्रह है जो हाइपरलिंक और यूआरएल के माध्यम से जुड़े हुए है।  वर्ल्ड वाइड वेब इंटरनेट द्वारा उपलब्ध कराई गई सेवाओं में से एक है।  ईमेल , चैट , ब्लॉगिंग एवं फाइल स्थानांतरण इंटरनेट पर सेवाओं के उदाहरण है।

यूनिफार्म रिसोर्स लोकेटर (URL - Uniform Resource Locator)
एक यूनिफार्म रिसोर्स लोकेटर (url) जिसे आम तौर पर एक वेब पते web address के रूप में जाना जाता है ; एक वेब संसाधन web resource का सन्दर्भ है जो एक कंप्यूटर नेटवर्क पर उस संसाधन का स्थान दर्शाता है और उस तक पहुंचने के लिये इस्तेमाल किया  जाता है। यूआरएल (URL) , वेब पृष्ठों (HTTP) के सन्दर्भ के लिए सबसे अधिक उपयोग किये जाते है , लेकिन यह फाइल स्थानांतरण , ईमेल , या डेटाबेस एक्सेस (Database Access -JDBC), के लिए भी उपयोग किया जाता है। अधिकांश ब्राउज़र , वेब पेज के यूआरएल को एड्रेस बार में प्रदर्शित करते है।
यूआरएल एक वेबसाइट , फाइल , या दस्तावेज का सामान्य प्रारूप में इंटरनेट पता है :      http://www.address/directories/filename
इंटरनेट से जुड़े प्रत्येक कंप्यूटर का अपना अनूठा यूआरएल होता है जिसके बिना दूसरे कंप्यूटर उस तक नहीं पहुंच सकते है।  आम तोर पर एक यूआरएल निम्न प्रकार से प्रदर्शित किया जा सकता है:                http://www.example.com/index.html
यह एक प्रोटोकॉल (HTTP) , एक होस्ट नाम (Host name)/ डोमेन नाम (Domain name)(www.example.com ) और एक फाइल  नाम (index.html) इंगित करता है।  TLDs (टॉप लेवल डोमेन ) के कुछ उदाहरण संदर्भ के लिए नीचे साझा कर रहे है :
.com  व्यावसायिक (Commercial) वेबसाइट
.edu  शिक्षा (विश्वविधालय) आदि
.gov  सरकार (विभिन्न देशों की सरकार एवं भारत के विभिन्न राज्यों की सरकार )
.net नेटवर्क (नेटवर्क प्रदाता (Network Providers)
.org संगठन (Organization) (गैर-लाभकारी और अन्य संगठन (Non-profit & Miscellaneous organizations )

डोमेन नेम सिस्टम  DNS - Domain Name System
डोमेन नाम सिस्टम (DNS) इंटरनेट डोमेन नामो का पता लगाने और उनका इंटरनेट एड्रेस प्रोटोकॉल में अनुवाद करने का तरीका है।  एक डोमेन नाम एक इंटरनेट एड्रेस को बाद रखने का एक सार्थक और आसान तरीका है।
डोमेन नेम सिस्टम कंप्यूटर, सेवाओं या किसी भी इंटरनेट या एक निजी नेटवर्क जुड़े संसाधन के लिए एक श्रेणीबद्ध वितरित नामकरण प्रणाली है।  ये डोमेन नेम्स , जो की मनुष्य द्वारा आसानी ये याद किये जा सकते है को संख्यात्मक (numerical) आईपी (IP) पतों में परिवर्तित करने का तरीका है , जिसकी आवश्यकता कंप्यूटर सेवाओं व डिवाइस के लिये दुनिया भर में होती है।
डोमेन नाम प्रणाली (Domain Name System) सभी इंटरनेट सेवाओं की सुविधा  आवश्यक घटक है क्योंकि यह इंटरनेट की प्राइमरी डायरेक्टरी सर्विस है।  डोमेन नाम अल्फबेटिक होते है इसलिए याद करने में आसान है।  इंटरनेट हालांकि , वास्तव में IP एड्रेस पर आधारित है।  हर बार आप एक डोमेन नाम का उपयोग करते है तब DNS सेवा इस डोमेन नाम परिवर्तित हो सकता है।


अगर आपके कोई सवाल हो या अन्य कोई जानकारी चाहिए तो आप हमें comment Box में कमेंट करे।
धन्यवाद ! आपका दिन मंगलमय हो।  

Comments

Popular posts from this blog

location of Rajasthan राजस्थान की भौगोलिक अवस्थिति

राजस्थान की भौगोलिक अवस्थिति ( location of Rajasthan ) राजस्थान( Rajasthan) का कुल क्षेत्रफल 3,42,239 वर्ग किमी है । यहाँ हम आपको राजस्थान के अक्षांश एवं देशांतर ,राजस्थान की स्थलीय सीमा व स्थिति ,राजस्थान एवं उसके पड़ौसी राज्य ,राजस्थान के जिले, संभाग ,राजस्थान की स्थिति एवं विस्तार के बारे में संक्षिप्त जानकारी देंगे|
राजस्थान की भौगोलिक अवस्थिति ( location of Rajasthan ) राजस्थान की ग्लोबीय स्थिति और विस्तार (Global Position and Extention of Rajasthan)
राजस्थान भारत के उतरी पश्चिमी भाग में स्थित है।  इसकी आकृति विषम चतुष्कोणीय (Rhombus) है।  राज्य का क्षेत्रफल 3,42,239 वर्ग किमी है।  इसकी भौगिलिक स्थिति 23°3' से 30°12' उतरी अक्षांशों (कुल अक्षांशीय विस्तार 7°9') तथा 69°30' से 78°17' पूर्वी देशान्तरों (कुल देशांतरीय विस्तार 8°47') के मध्य पायी जाती है।  राज्य के पूर्व तथा पश्चिमी भाग में 36 मिनट (9*4 =36 मिनट) का अंतर रहता है। सर्वप्रथम सूर्योदय राजस्थान में धौलपुर में होता है और सूर्यास्त सबसे बाद में जैसलमेर में होता है।  श्रीगंगानगर में सूर्य किरणों का सर्वाधि…

what is endocrine system अन्तः स्त्रावी तंत्र

What is the Endocrine system (अन्तः स्त्रावी तंत्र )के इस Article में आपको endocrine system organs (अंतःस्रावी तंत्र के अंगों), endocrine system glands(अंतःस्रावी तंत्र ग्रंथियों), endocrine system diseases(अंतःस्रावी तंत्र के रोगों), list of endocrine glands and their hormones (अंतःस्रावी ग्रंथियों और उनके हार्मोन की सूची),, endocrine system facts(अंतःस्रावी तंत्र के तथ्य ) से सम्बंधित तथ्यो की जानकारी दी जायेगी। Endocrine System अन्तः स्त्रावी तंत्र अंतःस्रावी तंत्र (Endocrine system) , ग्रंथियों का संग्रह है जो हार्मोन का उत्पादन करते हैं जो उपापचयन ,  विकास, ऊतक कार्य, यौन कार्य, प्रजनन, नींद और मनोदशा को नियंत्रित करते हैं।

अन्तः स्त्रावी तंत्र का मुख्य कार्य शरीर में रासायनिक समावस्था बनाये रखना है। ये ग्रंथियों तथा हॉर्मोन्स से मिलकर बनता है। ग्रंथि :- कोशिकाओं का ऐसा समूह या ऊतक  जो तरल पदार्थ (कार्बनिक पदार्थ) स्त्रावित करता है। उसे ग्रंथि कहते है। ग्रंथिया तीन प्रकार की होती है :- Endocrine gland ( अन्तः स्त्रावी ग्रन्थियाँ )Mixed  gland (मिश्रित ग्रंथि )Exocrine gland (बाह्य स…

Rajasthan ka parichay राजस्थान का परिचय

राजस्थान का परिचय Rajasthan ka parichay राजस्थान भारत का एक गणराज्य क्षेत्र है। यहाँ हम आपको राजस्थान के नामकरण ,राजस्थान के प्राचीन क्षेत्रवार नाम ,राजस्थान की उत्पति ,राजस्थान की स्थिति एवं विस्तार के बारे में संक्षिप्त जानकारी देंगे|
राजस्थान का परिचय Rajasthan ka parichayराजस्थाननामकीऐतिहासिकविवेचना वर्तमानराजस्थानभारतीयसंविधानद्वारानिर्मितगणराज्यकाएकराज्यहै।जिसकाअस्तित्व 1 नवम्बर 1956 कोहुआ।"राजस्थान " कावर्त्तमाननामकरण 26 जनवरी 1950 मेंहुआराजस्थानशब्दकाप्राचीनतमप्रयोग "राजस्थानियादित्य " विक्रमसंवत 682 मेंउत्कीर्ण "बसंतगढ़