Skip to main content

Web Browser kya hai ? वेब ब्राउज़र क्या है?

Web Browser kya hai  ? , वेब ब्राउज़र क्या है? ब्राउज़र एक सॉफ्टवेयर एप्लीकेशन है जो वर्ल्ड वाइड वेब पर कंटेंट को लोकेट करने , प्राप्त करने एवं प्रदर्शित करने में इस्तेमाल होती है , जैसे इमेज , वेब पेज , वीडियो कंटेंट्स आदि। आज आपको वेब ब्राउज़र क्या है , ब्राउज़र क्या है , एचटीटीपी , http , हाइपर टेक्स्ट ट्रांसफर प्रोटोकॉल, एचटीटीपी और एचटीटीपीएस में अंतर , वेब सर्च करना ,How to Search the Web ,सर्च इंजन , Search Engine  आदि की संक्षिप्त जानकारी दी जाएगी।
Web Browser kya hai  ? , वेब ब्राउज़र क्या है?,वेब ब्राउज़र क्या है , ब्राउज़र क्या है , एचटीटीपी , http , हाइपर टेक्स्ट ट्रांसफर प्रोटोकॉल
Web Browser kya hai ?  वेब ब्राउज़र क्या है?

Web Browser kya hai ?  वेब ब्राउज़र क्या है?

ब्राउज़र एक सॉफ्टवेयर एप्लीकेशन है जो वर्ल्ड वाइड वेब (WWW) पर कंटेंट को लोकेट करने , प्राप्त करने एवं प्रदर्शित करने में इस्तेमाल होती है , जैसे इमेज (Image) , वेब पेज (web page) , वीडियो कंटेंट्स (video contents) आदि।  एक क्लाइंट /सर्वर (Client/Server) मॉडल की तरह , ब्राउज़र एक क्लाइंट की तरह काम करता है , जो यूजर के कंप्यूटर पर रन (run) होता है।  ब्राउज़र वेब सर्वर (Web server) को संपर्क करके इनफार्मेशन रिक्वेस्ट करता है।  उसके बाद वेब सर्वर ी(Web server ) सूचना प्राप्त करके वापिस वेब ब्राउज़र को भेज देता है , ब्राउज़र इस इनफार्मेशन को प्रोसेस करके कंप्यूटर पर डिस्प्ले (Display) कर देता है।  
आज के ब्राउज़र अति आधुनिक (State of the art) है एवं पूरी तरह से कार्यात्मक (fully Function) सॉफ्टवेयर एप्लीकेशन (Application) है , जो वेब सर्वर (Web server) पर होस्टेड वेब पेज (hosted web page), एप्लीकेशन (application) , जावा स्क्रिप्ट (java script) एवं अन्य तरह के कंटेंट्स (contents) को प्रोसेस (process) और प्रदर्शित कर सकते है।  वेब ब्राउज़र एक यूजर इंटरफ़ेस (user interface) , लेआउट इंजन (layout engine) , रेंडरिंग इंजन (rendering engine), जावास्क्रिप्ट इंटरप्रेटर (javascript interpreter), यूजर इंटरफेस बेक एंड (user interface back end) , नेटवर्क एवं डाटा कंपोनेंट्स (network & data components) से मिलकर बनता है।  
अधिकांश प्रमुख वेब ब्राउज़र के यूजर इंटरफ़ेस ( User Interface) में कुछ अवयव (components) होते है जिनके नाम अलग अलग ब्राउज़र में अलग अलग हो सकते है। ये एलिमेंट्स है :-
  • बैक व फॉरवर्ड बटन (Back & Forward Buttons)- क्रमशः वापस पिछले या अगले संसाधन (resources) में जाने के लिए।  
  • एक रिफ्रेश (refresh) या रीलोड (reload) बटन (button) , मौजूदा संसाधन (Resource page) को फिर से लोड करने के लिए।  
  • एक स्टॉप बटन (Stop Button) जो रिसोर्स लोडिंग (Resource Loading) रद्द करने के लिए होता है।  कुछ ब्राउज़रो में स्टॉप बटन को रीलोड बटन के साथ विलय (Combine) कर दिया जाता है।  
  • एक होम बटन (Home Button) ,यूजर (User) के मुख पृष्ठ (Home Page) पर लौटने के लिए।  
  • एक एड्रेस बार (Address Bar ) जो वांछित संसाधन( desired resource) या पेज का यूनिफार्म रिसोर्स आइडेंटिफायर (URL- Uniform Resource Identifier) दर्ज करने में काम आती है।  
  • एक सर्च इंजन (Search Engine) में इनपुट शब्दों (Input keywords) के लिए एक सर्च बार (Search Bar) ; कुछ ब्राउज़रो में , सर्च बार (Search Bar) को एड्रेस बार (Address bar) के साथ विलय कर दिया जाता है।  
  • एक स्टेटस बार (Status Bar ) जो संसाधन (resource) या पेज को लोड (load) करने की प्रगति (progress) दर्शाती है , व साथ में जूमिंग (Zooming) बटन भी होते है।  
  • व्यूपोर्ट (View Port) - ब्राउज़र विंडो (Browser Window) के भीतर वेबपेज (Web Page) का दृश्य क्षेत्र होता है।  
  • एक पेज के लिए HTML सोर्स (Source) को देखने की क्षमता।  
  • प्रमुख ब्राउज़र में एक वेब पेज के भीतर सर्च (search) करने के लिए इंक्रीमेंटल फाइंड फीचर (Incremental Find Feature) भी होता है।  
  • अधिकतर ब्राउज़र HTTP सिक्योर (Secure) को support करते है और वेब कैश (Web Cache) , डाउनलोड हिस्ट्री (Download History) , ब्राउज़िंग हिस्ट्री (Browsing history) को नष्ट करने के लिए त्वरित (Quick) और आसान तरीके प्रस्तुत करते है।  

दो सबसे लोकप्रिय (Popular) ब्राउज़र है - माइक्रोसॉफ्ट इंटरनेट एक्स्प्लोरर (Microsoft Internet Explorer) / माइक्रोसॉफ्ट एज (Microsoft Edge) और गूगल क्रोम (Google Chrome) . 
अन्य प्रमुख ब्राउज़र में फ़ायरफ़ॉक्स (Firefox) , एप्पल सफारी (Apple Safari) और ओपेरा (Opera) शामिल है।  
नीचे क्रोम (Chrome) ब्राउज़र का उपयोग कर एक वेबसाइट /वेबपेज (Webpage) खोलने का एक उदाहरण दिया गया है।  दिखाए गए स्टेप के अनुसार , आपको एड्रेस बार पर जाकर अपनी वेबसाइट / वेबपेज का एड्रेस टाइप करना होगा (उदाहरण :- http://www.google.co.in) सीधे वेबसाइट पर जाने के लिए एंटर (Enter) दर्ज करे।  आपको यह सुनिश्चित करने की जरूरत है की आपका दर्ज किया गया एड्रेस सही हो। Enter को दबाने पर , आपको निर्दिष्ट वेबसाइट / वेबपेज प्रदर्शित हो जाएगी।

एचटीटीपी (HTTP) और एचटीटीपीएस (HTTPS)  में अंतर
एचटीटीपी (HTTP- Hyper Text Transfer Protocol) वितरित (distributed), सहयोगी (collaborative) , हाइपर मीडिया (Hypermedia) सूचना (information) प्रणाली के लिए एक एप्लीकेशन प्रोटोकॉल (Application Protocol) है।  HTTP वर्ल्ड वाइड वेब (world wide web) के लिये डेटा संचार (Data Transmission) का आधार है।  हाइपर टेक्स्ट (Hyper Text) संरचित (selfcreated) टेक्स्ट होता है , जो तार्किक (logical) लिंक (हाइपरलिंक) का उपयोग करता है।  HTTP हाइपर टेक्स्ट का आदान-प्रदान (Exchange) या हस्तांतरण (Transfer) करने का प्रोटोकॉल के रूप में HTTP कार्य करता है।
एचटीटीपी (HTTP) का उपयोग कर एक कंप्यूटर नेटवर्क पर सुरक्षित (Secure) संचार (communication) के लिए HTTPS (HTTP Secure) प्रोटोकॉल है।  HTTP Secure का संचार HTTP पर होता है पर इसमें कनेक्शन ट्रांसपोर्ट लेयर (Connection Transport Layer) सिक्योरिटी या सिक्योर सॉकेट लेयर (SSL- Secure Socket Layer ) द्वारा एन्क्रिप्टेड (Encrypted) होता है।  HTTP सिक्योर का मुख्या उद्देश्य (Objective) वेबसाइट का प्रमाणीकरण (Autentication), गोपनीयता (Secrecy) और डेटा के आदान-प्रदान की अखंडता (Integrity) है।  यह विशेष एवं व्यापक रूप से उन इंटरनेट वेबसाइटो के लिये उपयोग में लिया जाता है जहाँ पर वितीय (Financial) लेन-देन (transaction) होता है या फिर डेटा को गोपनीय रखने की जरूरत होती है।

NOTE:- मोबाइल ब्राउज़र एक ऐसा वेब ब्राउज़र है जिसे किसी मोबाइल डिवाइस जैसे मोबाइल फोन या पीडीए (PDA) पर उपयोग के लिए डिज़ाइन किया गया है।  पोर्टेबल डिवाइस (Portable Device) की छोटी स्क्रीन के लिए वेब सामग्री को सबसे प्रभावी ढंग से प्रदर्शित करने के लिए मोबाइल ब्राउज़र अनुकूल (suitable) है।  मोबाइल ब्राउज़र सॉफ्टवेयर को काम समृति क्षमता (low memory capacity) और वायरलेस हैंडहेल्ड डिवाइसो  (Wireless Handheld Device) की काम बैंडविड्थ (bandwidth) को समायोजित करने के लिए छोटा और कुशल होना चाहिए।

अगर आपके कोई सवाल हो या अन्य कोई जानकारी चाहिए तो आप हमें comment Box में कमेंट करे।
धन्यवाद ! आपका दिन मंगलमय हो।  


Comments

Popular posts from this blog

location of Rajasthan राजस्थान की भौगोलिक अवस्थिति

राजस्थान की भौगोलिक अवस्थिति ( location of Rajasthan ) राजस्थान( Rajasthan) का कुल क्षेत्रफल 3,42,239 वर्ग किमी है । यहाँ हम आपको राजस्थान के अक्षांश एवं देशांतर ,राजस्थान की स्थलीय सीमा व स्थिति ,राजस्थान एवं उसके पड़ौसी राज्य ,राजस्थान के जिले, संभाग ,राजस्थान की स्थिति एवं विस्तार के बारे में संक्षिप्त जानकारी देंगे|
राजस्थान की भौगोलिक अवस्थिति ( location of Rajasthan ) राजस्थान की ग्लोबीय स्थिति और विस्तार (Global Position and Extention of Rajasthan)
राजस्थान भारत के उतरी पश्चिमी भाग में स्थित है।  इसकी आकृति विषम चतुष्कोणीय (Rhombus) है।  राज्य का क्षेत्रफल 3,42,239 वर्ग किमी है।  इसकी भौगिलिक स्थिति 23°3' से 30°12' उतरी अक्षांशों (कुल अक्षांशीय विस्तार 7°9') तथा 69°30' से 78°17' पूर्वी देशान्तरों (कुल देशांतरीय विस्तार 8°47') के मध्य पायी जाती है।  राज्य के पूर्व तथा पश्चिमी भाग में 36 मिनट (9*4 =36 मिनट) का अंतर रहता है। सर्वप्रथम सूर्योदय राजस्थान में धौलपुर में होता है और सूर्यास्त सबसे बाद में जैसलमेर में होता है।  श्रीगंगानगर में सूर्य किरणों का सर्वाधि…

what is endocrine system अन्तः स्त्रावी तंत्र

What is the Endocrine system (अन्तः स्त्रावी तंत्र )के इस Article में आपको endocrine system organs (अंतःस्रावी तंत्र के अंगों), endocrine system glands(अंतःस्रावी तंत्र ग्रंथियों), endocrine system diseases(अंतःस्रावी तंत्र के रोगों), list of endocrine glands and their hormones (अंतःस्रावी ग्रंथियों और उनके हार्मोन की सूची),, endocrine system facts(अंतःस्रावी तंत्र के तथ्य ) से सम्बंधित तथ्यो की जानकारी दी जायेगी। Endocrine System अन्तः स्त्रावी तंत्र अंतःस्रावी तंत्र (Endocrine system) , ग्रंथियों का संग्रह है जो हार्मोन का उत्पादन करते हैं जो उपापचयन ,  विकास, ऊतक कार्य, यौन कार्य, प्रजनन, नींद और मनोदशा को नियंत्रित करते हैं।

अन्तः स्त्रावी तंत्र का मुख्य कार्य शरीर में रासायनिक समावस्था बनाये रखना है। ये ग्रंथियों तथा हॉर्मोन्स से मिलकर बनता है। ग्रंथि :- कोशिकाओं का ऐसा समूह या ऊतक  जो तरल पदार्थ (कार्बनिक पदार्थ) स्त्रावित करता है। उसे ग्रंथि कहते है। ग्रंथिया तीन प्रकार की होती है :- Endocrine gland ( अन्तः स्त्रावी ग्रन्थियाँ )Mixed  gland (मिश्रित ग्रंथि )Exocrine gland (बाह्य स…

Rajasthan ka parichay राजस्थान का परिचय

राजस्थान का परिचय Rajasthan ka parichay राजस्थान भारत का एक गणराज्य क्षेत्र है। यहाँ हम आपको राजस्थान के नामकरण ,राजस्थान के प्राचीन क्षेत्रवार नाम ,राजस्थान की उत्पति ,राजस्थान की स्थिति एवं विस्तार के बारे में संक्षिप्त जानकारी देंगे|
राजस्थान का परिचय Rajasthan ka parichayराजस्थाननामकीऐतिहासिकविवेचना वर्तमानराजस्थानभारतीयसंविधानद्वारानिर्मितगणराज्यकाएकराज्यहै।जिसकाअस्तित्व 1 नवम्बर 1956 कोहुआ।"राजस्थान " कावर्त्तमाननामकरण 26 जनवरी 1950 मेंहुआराजस्थानशब्दकाप्राचीनतमप्रयोग "राजस्थानियादित्य " विक्रमसंवत 682 मेंउत्कीर्ण "बसंतगढ़