काल : परिभाषा , भेद और उदाहरण | Tense in Hindi

 हिंदी व्याकरण में आज हम आपको इस पोस्ट में काल की परिभाषा, काल के भेद ,काल के उदाहरण, भूतकाल के उपभेद , वर्तमान काल के उपभेद , भविष्यत काल के उपभेद , Kaal class 10, Kaal class 9, Kaal in hindi, Tense in Hindi आदि  के बारे में संक्षिप्त जानकारी दी गई है।  

Kaal in Hindi, काल : परिभाषा , भेद और उदाहरण | Tense in Hindi,काल की परिभाषा, काल के भेद ,काल के उदाहरण, भूतकाल के उपभेद , वर्तमान काल के उपभेद , भविष्यत काल के उपभेद , Kaal class 10, Kaal class 9, Tense in Hindi
 काल : परिभाषा , भेद और उदाहरण | Tense in Hindi


काल की परिभाषा , भेद और उदाहरण | Tense in Hindi


काल की परिभाषा :- क्रिया के जिस रूप से उसके होने के समय का बोध हो , उसे काल कहते है।  

काल के भेद :- 

काल के तीन भेद होते है। 

  1. भूतकाल 
  2. वर्तमान काल 
  3. भविष्यत काल 


भूतकाल ( Past Tense) की परिभाषा , भेद और उदाहरण 

भूतकाल की परिभाषा :- क्रिया के जिस रूप से कार्य का बीते समय में होना पाया जाये , भूतकाल कहलाता है।  

भूतकाल के 6 उपभेद होते है -

  1. सामान्य भूतकाल 
  2. आसन्न भूतकाल 
  3. संदिग्ध भूतकाल 
  4. अपूर्ण भूतकाल 
  5. पूर्ण भूतकाल 
  6. हेतुहेतुमतद भूतकाल 

भूतकाल के उदाहरण :-
  • राम जयपुर गया।    -   सामान्य भूतकाल 
  • राम जयपुर गया है।   - आसन्न भूतकाल 
  • राम जयपुर गया होगा।   - संदिग्ध भूतकाल 
  • राम जयपुर जा रहा था।   - अपूर्ण भूतकाल 
  • राम जयपुर गया था।   - पूर्ण भूतकाल 
  • यदि राम जयपुर जाता तो हवामहल देखता।  - हेतुहेतुमतद भूतकाल 


1. सामान्य भूतकाल :- क्रिया के जिस रूप से साधारण काम का बीते समय में होना पाया जाये , सामान्य भूतकाल कहलाता है।  
जैसे :-
  • राम जयपुर गया।  
  • उसने पत्र पढ़ा।  
  • गाड़ी चली गयी। 
  • लड़के आये। 
सामान्य भूतकाल की पहचान :- इसमें सहायक क्रियाओ का प्रयोग नहीं होता है। 
जैसे- लता ने गाना गाया। 


2. आसन्न भूतकाल :- क्रिया के जिस रूप से कार्य का अभी समाप्त होना पाया जाये , आसन्न भूतकाल कहलाता है।  
जैसे -
  • राम जयपुर गया है। 
  • उसने पत्र पढ़ा है।  
  • गाड़ी चली गयी है।  
  • लड़के आये है। 
आसन्न भूतकाल की पहचान :- इसमें प्रायः अंत में 'है' का प्रयोग होता है।  लेकिन क्रिया भूतकाल की होती है।  
जैसे - लता ने गाना गाया है। 


3. संदिग्ध भूतकाल :- क्रिया के जिस रूप से कार्य के होने में संदेह हो , संदिग्ध भूतकाल कहलाता है।
जैसे - 
  • राम जयपुर गया होगा। 
  • उसने पत्र पढ़ा होगा। 
  • गाड़ी चली गयी होगी। 
  • लड़के आये होंगे। 
संदिग्ध भूतकाल  की पहचान :- इसमें भूतकाल की क्रिया के साथ 'होगा/होगी/होंगे ' का प्रयोग किया जाता है।  
जैसे- लता ने गाना गाया होगा। 
    
4. अपूर्ण भूतकाल :- क्रिया के जिस रूप से कार्य के पूर्ण न होने का बोध हो , अपूर्ण भूतकाल कहलाता है।  
जैसे - 
  • राम जयपुर जा रहा था। 
  • वह पत्र पढ़ रहा था। 
  • लड़के आ रहे थे। 
  • वह जाता था। 
  • वह जाती थे। 
  • वे पढ़ते थे। 
अपूर्ण भूतकाल की पहचान :- इसमें वाक्य के अंत में 'रहा था / रही थी / रहे थे' का प्रयोग होता है।  ( ता था / ती थी / ते थे )
जैसे - लता गाना गा रही थी। 


5. पूर्ण भूतकाल :- क्रिया के जिस रूप से कार्य का कुछ समय पहले समाप्त होना पाया जाये , पूर्ण भूतकाल कहलाता है। 
जैसे - 
  • राम जयपुर गया था। 
  • उसने पत्र पढ़ा था। 
  • गाड़ी जा चुकी थी। 
  • लड़के आ गये थे।  
  • लता ने गाना गाया था। 

6. हेतुहेतुमतद भूतकाल :- क्रिया के जिस रूप से बीते हुए समय में किसी क्रिया का होना , किसी दूसरी क्रिया पर निर्भर करे , तो वहां हेतुहेतुमतद भूतकाल होता है। 
हेतुहेतुमतद भूतकाल की पहचान :- इसमें दोनों क्रियाएँ भूतकाल की होती है व 'यदि' का प्रयोग किया जाता है। 
जैसे - 
  • यदि तुम पढ़ते तो उत्तीर्ण हो जाते। 
  • यदि वर्षा होती तो फसल अच्छी होती। 
  • यदि वह दौड़ता तो रेस जीत लेता। 


वर्तमान काल ( Present Tense) की परिभाषा , भेद और उदाहरण 

वर्तमान काल की परिभाषा :- क्रिया के जिस रूप से कार्य का वर्तमान में होना पाया जाये , वर्तमान काल कहलाता है।  

वर्तमान काल के 5 उपभेद होते है -

  1. सामान्य वर्तमान काल 
  2. अपूर्ण / तात्कालिक वर्तमान काल
  3. संदिग्ध वर्तमान काल 
  4. सम्भाव्य वर्तमान काल  
  5. आज्ञार्थक वर्तमान काल 
वर्तमान काल के उदाहरण :-
  • राम पुस्तक पढता है।    -   सामान्य वर्तमान काल 
  • राम पुस्तक पढ़ रहा है।   - अपूर्ण / तात्कालिक वर्तमान काल
  • राम पुस्तक पढता होगा।   - संदिग्ध भूतकाल 
  • राम पुस्तक पढ़ रहा होगा।   - सम्भाव्य वर्तमान काल  
  • राम , अब तुम पुस्तक पढ़ो।   - आज्ञार्थक वर्तमान काल 
1. सामान्य वर्तमान काल :- क्रिया के जिस रूप से साधारणतया काम का वर्तमान में होना पाया जाये , सामान्य वर्तमान काल कहलाता है।  
जैसे :-
  • राम जयपुर जाता है।  
  • बच्चे विधालय जाते है। 
  • लता गाना गाती है।  
सामान्य वर्तमान काल की पहचान :- इसमें वाक्यों के अंत में 'ता है /ती है / ते है ' का प्रयोग होता है । 


2. अपूर्ण / तात्कालिक वर्तमान काल :- क्रिया के जिस रूप से वर्तमान काल में क्रिया के अपूर्ण होने का बोध हो , अपूर्ण / तात्कालिक वर्तमान काल कहलाता है। 
जैसे -
  • राम जयपुर रहा है। 
  • लता गाना गा रही है। 
  • बच्चे विद्यालय जा रहे है। 
अपूर्ण / तात्कालिक वर्तमान काल की पहचान :- इसमें वाक्य के अंत  में ' रहा है / रही है / रहे है ' का प्रयोग होता है। 


3.  संदिग्ध वर्तमान काल :- क्रिया के जिस रूप से वर्तमान काल में कार्य के होने में संदेह हो , संदिग्ध वर्तमान काल कहलाता है। 
जैसे - 
  • राम जयपुर जाता होगा। 
  • लता गाना गाती होगी। 
  • बच्चे विद्यालय जाते होंगे। 
संदिग्ध वर्तमान काल  की पहचान :- इसमें वाक्यों में क्रिया के साथ 'ता/ती/ते + होगा/होगी/होंगे ' का प्रयोग किया जाता है।  

    
4. संभाव्य वर्तमान काल :- क्रिया के जिस रूप से वर्तमान काल में क्रिया के होने की सम्भावना व्यक्त की जाये  , सम्भाव्य वर्तमान काल कहलाता है।  
जैसे - 
  • राम जयपुर जा रहा होगा । 
  • लता गाना गा रही होगी। 
  • बच्चे विद्यालय जा रहे होंगे। 
  • शायद वह पत्र पढ़ रहा है। 
संभाव्य वर्तमान काल की पहचान  :- इसमें वाक्य के अंत में 'रहा होगा / रही होगी  / रहे होंगे ' का प्रयोग होता है। अथवा इसमें संभावना सूचक शब्दों जैसे - 'शायद , संभवतः , हो सकता है ' आदि का प्रयोग किया जाता है। 


5. आज्ञार्थक वर्तमान काल :- क्रिया के जिस रूप से वर्तमान काल में आज्ञा का बोध हो , आज्ञार्थक वर्तमान काल कहलाता है। 
जैसे - 
  • तुम पर्यायवाची यद् करते रहो। 
  • राम , अब तुम पुस्तक पढ़ो। 
  • आप बाहर जाइये।  


भविष्यत काल ( Future Tense) की परिभाषा , भेद और उदाहरण 

भविष्यत काल की परिभाषा :- क्रिया के जिस रूप से आने वाले समय में कार्य का होना पाया जाये , भविष्यत काल कहलाता है।  

भविष्यत काल के 5 उपभेद होते है -

  1. सामान्य भविष्यत काल 
  2. सातत्यबोधक भविष्यत काल 
  3. आज्ञार्थक भविष्यत काल 
  4. सम्भाव्य भविष्यत काल  
  5. हेतुहेतुमतद भविष्यत काल 

1. सामान्य भविष्यत काल :- क्रिया के जिस रूप से साधारणतया काम का आने वाले समय में होना पाया जाये , तथा दृढ़निश्चय वाले वाक्यों में भी सामान्य भविष्यत काल होता है।  
जैसे :-
  • राम पत्र पढ़ेगा। 
  • सीता जयपुर जायेगी। 
  • लता गाना गायेगी। 
  • हम पर्यायवाची याद करेंगे।   


2. सातत्यबोधक भविष्यत काल :- क्रिया के जिस रूप से आने वाले समय में कार्य के आगे होते रहने की दिशा का बोध हो , सातत्यबोधक भविष्यत काल कहलाता है। 
जैसे -
  • मैं सदैव आपका आभारी रहूँगा। 
  • जवान देश की सेवा करते रहेंगे। 

 
3. संभाव्य भविष्यत काल :- क्रिया के जिस रूप से आने वाले समय में क्रिया के होने की सम्भावना व्यक्त की जाये  , सम्भाव्य भविष्यत काल कहलाता है।  
जैसे - 
  • हो सकता है , मैं दिल्ली जाऊँ। 
  • शायद आज वह आएँ। 
  • संभवतः मैं जाऊँ। 
  • शायद चोर पकड़ा जायेगा। 
  • शायद आज रात वर्षा हो। 

4. आज्ञार्थक भविष्यत काल :- क्रिया के जिस रूप से आने वाले समय में आज्ञा का बोध हो , आज्ञार्थक भविष्यत काल कहलाता है। 
जैसे - 
  • आप पढ़ते रहना। 
  • आप हमारे घर अवश्य आइयेगा। 
  • आप वहाँ अवश्य जाइयेगा। 

5. हेतुहेतुमतद भविष्यत काल :- क्रिया के जिस रूप से एक कार्य का पूरा होना , दूसरी आने वाली समय की क्रिया पर निर्भर हो , हेतुहेतुमतद भविष्यत काल कहलाता है। 
जैसे -
  • यदि तुम पढ़ोगे , तो उत्तीर्ण हो जाओगे। 
  • वह कमाये तो में खाऊँ। 
  • वह आये तो मैं जाऊँ। 


हमारे इस पोस्ट को पढ़ने के लिए आपका धन्यवाद !  इसमें आपको काल की परिभाषा, काल के भेद ,काल के उदाहरण, भूतकाल के उपभेद , वर्तमान काल के उपभेद , भविष्यत काल के उपभेद , Kaal class 10, Kaal class 9, Tense in Hindi आदि  के बारे में संक्षिप्त जानकारी दी गई है।

अगर आपके कोई सवाल हो या अन्य कोई जानकारी चाहिए तो आप हमें Comment Box में कमेंट करे।