पद परिचय | Pad Parichay in Hindi

हिंदी व्याकरण में शब्दों के समूह को पदबंध कहते है ।  इसलिए आज हम आपको इस पोस्ट में पद की परिभाषा, पदपरिचय ,पदपरिचय की परिभाषा, Pad Parichay in hindi , पदपरिचय के उदाहरण ,Pad Parichay class 10, pad parichay class 9, pad parichay kya hai  आदि  के बारे में संक्षिप्त जानकारी दी गई है।  

पद परिचय |  Pad Parichay in Hindi, पदपरिचय ,पदपरिचय की परिभाषा, Pad Parichay in hindi , पदपरिचय के उदाहरण ,Pad Parichay class 10, pad parichay class 9, pad parichay kya hai
पद परिचय |  Pad Parichay in Hindi 


 पद परिचय की परिभाषा  Pad Parichay in Hindi


पद की परिभाषा :- वाक्य में प्रयुक्त होने वाले शब्द ही पद कहलाते है।  

पद परिचय की परिभाषा :- वाक्य में आने वाले प्रत्येक सार्थक शब्दों के व्याकरणिक परिचय को पद- परिचय /पद व्याख्या /पदांवय  कहते है।  पद परिचय में उस शब्द के भेद , उपभेद , वचन ,कारक , लिंग आदि के परिचय के साथ , वाक्य में आने वाले अन्य पदों के साथ सम्बन्ध का भी उल्लेख किया जाता है। 


निम्न विकारी शब्दों का पद-परिचय :-

1. संज्ञा शब्द का पद परिचय :- किसी भी संज्ञा शब्द की सम्पूर्ण जानकारी देना, संज्ञा शब्द का पद परिचय कहलाता है। अर्थात किसी भी संज्ञा शब्द के पद परिचय के लिए निम्न बातें बतलानी होती है -संज्ञा के प्रकार , उसका लिंग , वचन , कारक , उस शब्द का क्रिया के साथ सम्बन्ध। 

संज्ञा शब्द का क्रिया से सहसम्बन्ध 'कारक' के अनुसार जाना जा सकता है। 

जैसे - यदि संज्ञा शब्द कर्त्ता कारक है तो लिखेंगे अमुक क्रिया का कर्त्ता या 'करने वाला' तथा कर्म कारक है तो उल्लेख करेंगे अमुक क्रिया का 'कर्म' ! इसी प्रकार कारक के अनुसार उसका क्रिया के साथ सम्बन्ध बतलाया जायेगा। 

  • नरेंद्र पुस्तक पढता है।  

इस वाक्य में 'नरेंद्र' तथा 'पुस्तक' शब्द संज्ञाएँ हैं।  यहाँ इनका पद परिचय निम्न पांच बातों के अनुसार होगा -

नरेंद्र :- व्यक्तिवाचक संज्ञा , पुल्लिंग , एकवचन , कर्त्ता कारक , 'पढता है ' क्रिया का कर्त्ता। 

पुस्तक :- जातिवाचक संज्ञा , स्त्रीलिंग , एकवचन , कर्म कारक , 'पढता है ' क्रिया का कर्म । 


2. सर्वनाम शब्द का पद परिचय :- किसी भी सर्वनाम शब्द की सम्पूर्ण जानकारी देना , सर्वनाम शब्द का पद परिचय कहलाता है।  अर्थात किसी सर्वनाम के पद परिचय में भी संज्ञा शब्द के पद परिचय की ही बातों का उल्लेख करना होगा , जैसे - सर्वनाम का प्रकार पुरुष सहित , लिंग , वचन , कारक  तथा क्रिया के साथ सम्बन्ध आदि। 

  • मैं पुस्तक पढता हु।  

इस वाक्य में 'मैं' शब्द सर्वनाम है।  अतः इसका पद परिचय होगा -

मैं - पुरुषवाचक सर्वनाम , उत्तम-पुरुष , पुल्लिंग , एकवचन , 'पढता हु' क्रिया का कर्त्ता।  

  • यह उसकी वही कार है जिस कोई चुराकर ले गया था। 

यह :- निश्चयवाचक सर्वनाम , अन्य पुरुष , स्त्रीलिंग , एकवचन , सम्बन्ध कारक , 'कार' संज्ञा शब्द  सम्बन्ध। 

जिसे :- सम्बन्धवाचक सर्वनाम , स्त्रीलिंग , एकवचन , कर्मकारक , 'चुराकर ले गया' क्रिया का कर्म। 

कोई :- अनिश्चयवाचक सर्वनाम , अन्य पुरुष , पुल्लिंग , एकवचन , कर्त्ता कारक , 'चुराकर ले गया' क्रिया का कर्त्ता। 


3. विशेषण शब्द का पद परिचय :- किसी विशेषण शब्द के पद परिचय हेतु निम्न बातों का उल्लेख करना होता है। यथा - विशेषण का प्रकार , अवस्था , लिंग , वचन , विशेष्य व उसके साथ सम्बन्ध। 

  • वीर कृष्ण ने सब राक्षसों का वध कर दिया। 

उक्त वाक्य में 'वीर' तथा 'सब' शब्द विशेषण है , इनका पद परिचय निम्नानुसार होगा - 

वीर :- गुणवाचक विशेषण , मूलावस्था , पुल्लिंग , एकवचन , 'कृष्ण' विशेष्य  के गुण का बोध कराता है। 

सब :- संख्यावाचक विशेषण , मूलावस्था , पुल्लिंग , बहुवचन , 'राक्षसों' विशेष्य  के संख्या का बोध कराता है। 


4. क्रिया शब्द का पद परिचय :- क्रिया शब्द का पद परिचय में क्रिया का प्रकार , लिंग, वचन, वाच्य , काल तथा वाक्य में प्रयुक्त अन्य शब्दों के साथ सम्बन्ध को बतलाया जाता है। 
अर्जुन ने दुर्योधन को बाण से मारा। 
उक्त वाक्य में 'मारा' पद क्रिया है। इसका पद परिचय निम्नानुसार होगा - 
मारा :- सकर्मक क्रिया , पुल्लिंग , एकवचन , कर्त्तृवाच्य , भूतकाल , 'मारा' क्रिया का कर्त्ता 'अर्जुन' , कर्म दुर्योधन   , तथा करण बाण। 


निम्न अव्यय या अविकारी शब्द का पद परिचय : -


1. क्रिया विशेषण का पद परिचय :
लड़के ऊपर खड़े है। 
उक्त वाक्य में 'ऊपर' शब्द क्रिया विशेषण है।  इसका पद परिचय निम्नानुसार होगा -
ऊपर :- स्थानवाचक क्रिया विशेषण , 'खड़े है' क्रिया के स्थान का बोध कराता है। 


2. सम्बन्धबोधक अव्यय का पद परिचय :- 
भोजन के बाद विश्राम करना चाहिए। 
उक्त वाक्य में 'के बाद' शब्द सम्बन्ध बोधक अव्यय है।  इसका पद परिचय निम्नानुसार होगा -
के बाद :- सम्बन्ध बोधक अव्यय , जो भोजन संज्ञा का सम्बन्ध 'विश्राम' के साथ जोड़ता है।  


3. समुच्चयबोधक अव्यय का पद परिचय :- 
तृप्ति और गुंजन जा रही है।
उक्त वाक्य में 'और' शब्द समुच्चयबोधक अव्यय है।  इसका पद परिचय निम्नानुसार होगा -  
और :- समुच्चय बोधक अव्यय , संयोजक , तृप्ति तथा गुंजन दो संज्ञा शब्दों को जोड़ता है। 


4. विस्मयादिबोधक अव्यय का पद परिचय :-
अरे ! यह क्या हो गया हो ?
उक्त वाक्य में 'अरे' शब्द विस्मयादिबोधक अव्यय है।  इसका पद परिचय निम्नानुसार होगा -
अरे :- विस्मयादि बोधक अव्यय , जो विस्मय के भाव का बोध कराता है। 


हमारे इस पोस्ट को पढ़ने के लिए आपका धन्यवाद !  इसमें आपको पदपरिचय ,पदपरिचय की परिभाषा, Pad Parichay in hindi , पदपरिचय के उदाहरण ,Pad Parichay class 10, pad parichay class 9, pad parichay kya hai आदि  के बारे में संक्षिप्त जानकारी दी गई है।

अगर आपके कोई सवाल हो या अन्य कोई जानकारी चाहिए तो आप हमें Comment Box में कमेंट करे।