अफ्रीका महाद्वीप की सामान्य जानकारी | Africa Mahadeep in Hindi

अफ्रीका महाद्वीप के बारे में सामान्य जानकारी, Africa Mahadeep in Hindi, africa mahadeep,africa mahadeep ka sabse bada desh, africa wikipedia in hindi
 अफ्रीका महाद्वीप के बारे में सामान्य जानकारी | Africa Mahadeep in Hindi 


अफ्रीका महाद्वीप के बारे में सामान्य जानकारी 

  • विश्व का क्षेत्रफल और जनसंख्या की दृष्टि से दूसरा सबसे बड़ा महाद्वीप "अफ्रीका महाद्वीप" है। 
  • अफ्रीका महाद्वीप का क्षेत्रफल :- 3,03,70,000 वर्ग किमी 
  • अफ्रीका महाद्वीप की जनसँख्या :- 1 अरब 27 करोड़ 
  • अफ्रीका महाद्वीप के उपनाम :- (I) अंध महाद्वीप (शैक्षिक और आर्थिक स्तर पर होने के कारण इसे अंध महाद्वीप कहते है। )       (II) मानव का जन्म स्थल   (III) जनजातियों का महाद्वीप   (IV) पठारों का महाद्वीप। 
  • इसका क्षेत्रफल की दृष्टि से सबसे बड़ा देश :- अलजीरिया 
  • इसका जनसंख्या की दृष्टि से सबसे बड़ा देश :- नाइजीरिया
  • जनसंख्या + क्षेत्रफल की दृष्टि से सबसे छोटा देश - सेसेल्स देश ( यह हिन्द महासागर में स्थित है। )
  • विश्व का एकमात्र महाद्वीप जिसका विस्तार दोनों गोलार्द्ध में है। (उत्तरी तथा दक्षिणी गोलार्द्ध में )
  • इस महाद्वीप में विश्व के सर्वाधिक देश - 54 देश स्थित है। 
  • दुनिया की एकमात्र नदी जो भूमध्य रेखा को दो बार काटती है - कांगो नदी ( यही अफ्रीका में स्थित है। )
  • विश्व का सबसे बड़ा मरुस्थल " सहारा मरुस्थल " है। जिसका विस्तार अफ्रीका महाद्वीप के नाइजीरिया और सूडान देशो में है। इसका क्षेत्रफल 84 लाख वर्ग किमी है। 
  • इस महाद्वीप को "लाल सागर व स्वेज नहर" एशिया महाद्वीप से अलग करते है। 
  • इस महाद्वीप को "भूमध्य सागर व जिब्राल्टर जल संधि" यूरोप से अलग करते है।
  • इस महाद्वीप में स्थित जंजीबार द्वीप को "विश्व के मसालों का द्वीप" कहते है। यह हिन्द महासागर में स्थित है। 
  • इस महाद्वीप में बहने वाली लिम्फोफो नदी मकर रेखा को दो बार काटती है। 
  • अफ्रीका शब्द बरबर भाषा का शब्द है , जो " इफ्री या इफ्रान" से बना है , जिसका अर्थ "गुफा" है। 
  • इस महाद्वीप की सबसे लम्बी पर्वतमाला "एटलस" है , जिसका विस्तार मोरक्को , अलजीरिया और ट्यूनेशिया देश में है। 
  • एटलस पर्वतमाला का सर्वोच्च शिखर 'टूबेकल' है , जिसकी ऊँचाई 4167 मी. है , जो इस महाद्वीप का दूसरा सर्वोच्च शिखर है। 
  • अफ्रीका महाद्वीप का सर्वोच्च शिखर " किलिमंजारो " है , जो कि तंजानिया देश में स्थित है। 
  • मोजाम्बिक चैनल अफ्रीका महाद्वीप को मेडागास्कर द्वीप से अलग करता है।  
  • इस महाद्वीप के कंटागा के पठार (जाम्बिया देश ) पर जाम्बेजी नदी बहती है। जो विक्टोरिया जल प्रपात बनाती है। 
  • यहाँ दो अन्य पर्वतमाला ' स्वार्टबर्ग और ड्रेकेन्सबर्ग ' दक्षिण अफ्रीका के पूर्व में स्थित है। इसके मध्य में केप डॉक्टर नामक स्थान पर ठंडी स्थानीय पवन चलती है जिसे "टेबल क्लॉक" कहते है। 


अफ्रीका महाद्वीप के प्रमुख मरुस्थल 

1. सहारा मरुस्थल :- 

  • यह विश्व का सबसे बड़ा मरुस्थल है। 
  • इसका क्षेत्रफल 84 लाख वर्ग किमी है। 
  • अफ्रीका महाद्वीप में सहारा मरुस्थल का सर्वाधिक विस्तार ' अलजीरिया तथा सूडान ' देश में है। 
  • सहारा मरुस्थल के उत्तर-पश्चिम में "एटलस पर्वतमाला " स्थित है। 
  • इस मरुस्थल में विश्व के दो बड़े गर्म स्थान स्थित है। 
  • (I) अल अजीजिया - यह लिबिया देश में स्थित है। यह विश्व का दूसरा सबसे गर्म स्थान है। 
  • (II) शहडोल - यह इथोपिया देश में स्थित है। यह विश्व का तीसरा सबसे गर्म स्थान है। 
  • NOTE:- विश्व का पहला सबसे गर्म स्थान :- मृत घाटी (USA) में स्थित है। 
  • इस मरुस्थल में विश्व की लम्बी नदी "नील नदी" बहती है। इसकी लम्बाई 6600 किमी है। इस नदी को दो भागो  बाँटा गया है।  (I) सफ़ेद नील - इसका उदगम स्थल विक्टोरिया झील है।  (II) ब्लू नील - इसका उदगम स्थल ताना झील है। ताना झील 'इथोपिया देश' में स्थित है। विक्टोरिया झील 'युगाण्डा , केन्या , तंजानिया देश की सीमा रेखा बनाती है।
  • नील नदी पर "आसवान बाँध"  मिश्र देश में स्थित है। जो कि विश्व के बड़े बाँधो में से एक है। इस बांध के बाह्य क्षेत्र में कपास की खेती की जाती है। कपास की खेती करने वाले किसानो को यहाँ "फैल्लाह"  कहते है। 
  • सहारा मरुस्थल में (सूडान देश) में पठारी क्षेत्र स्थित है , जिसे 'सूड़ क्षेत्र' कहा जाता है। 

2. कालाहारी मरुस्थल :-

यह विश्व का सबसे गर्म मरुस्थल है। 

इस मरुस्थल में अफ्रीका महाद्वीप की प्रमुख जनजाति "बुशमैन" पायी जाती है। 

बुशमैन जनजाति के घर को "स्योम" कहते है। 

यह एक 'चींटी खोर' जनजाति है जो केले और शहद खाना पसंद करती है। 

इस मरुस्थल में सबसे बड़ा व तेज दौड़ने वाला पक्षी शुतुरमुर्ग मिलता है। 

इस मरुस्थल में ओकोवांगो नदी बहती है, जिसे 'कालाहारी का रत्न ' कहते है।